Friday, January 16, 2009

ये है बंगलोर - बंगलोरु (जो कह लें )

क्यूँ कहते हैं बंगलोर को " है - टेक" सिटी ..

२ पोस्ट पहले मैंने बंगलोर और उसकी खूबसूरती का जिक्र किया था | वो खुमारी तो अभी तक उतरी नही है | पहले मैं हरेक शनिवार को बंगलोर जाया करता था | लेकिन अब काम और जिम्मेवारी बढ़ जाने के कारण नही जा पाता हूँ | लेकिन कोशिश रहती है की जब भी मौका मिले चला जाऊं | पिछले पोस्ट में मैंने कहा था की समय मिलेगा तो बंगलोर की कुछ फोटोग्राफ्स आपलोगों के साथ शेयर करूँगा | समय मिला तो नही पर हाँ समय निकाल कर कुछ फोटोग्राफ्स यहाँ पोस्ट कर रहा हूँ | आशा करता हूँ की आपलोगों को पसंद आएगा |

सबसे पहले इस्कॉन मन्दिर का दर्शन करें |




ये तस्वीर यहाँ के राजा केम्प गोडा की है | इनके नाम से बंगलोर में एक पुरी जगह है |


बंगलोर बुल-मन्दिर | काफ़ी प्रसिद्ध है | कहते हैं यहाँ जो मांगो , मिल जाता है |


ये बंगलोर का महाराजा पैलेस है |



बंगलोर सरकारी कार्यालय(विधान- सौधा)|



बंगलोर का लालबाग गार्डन | बंगलोर जाए तो यहाँ जरुर जाएँ |





और ये अनोखा पेड़ जो लालबाग में है


लालबाग का ग्लास हाउस |


बंगलोर की कुछ आईटी कंपनी ....

Microsoft:



Intel-tech park:


बंगलोर का सुर्ययास्त ....

एक झलक बंगलोर के हेब्बल फ्लाई ओवर की


७-स्टार लीला पैलेस |

बस ये थोडी झलक थी बंगलोर की | और बहुत सारे चीज़ है जो आपको बंगलोर का दीवाना बना सकता है | मुझे जो सबसे अच्छी लगती है वो है यहाँ का जलवायु | आप भी बताएं आपको कैसा लगा बंगलोर ?

Photographs:Courtesy-Google

23 comments:

Arvind Mishra said...

वाह अमित भाई आपने आज प्रातः बंगलौर दर्शन ही करा दिया ! वर्हों पूर्व बंगलौर दर्शन की यादे ताजा हो आयीं ! शुक्रिया!

PN Subramanian said...

बहुत ही सुंदर तस्वीरें हैं. बुल टेम्पल को वहां "दोद्दा बसवा" के नाम से जन जाता है. द्दोद्दा मतलब बड़ा और बसवा का मतलब हुआ सांड.(नंदी). मजा आ गया. आभार.

ताऊ रामपुरिया said...

बहुत लाजवाब दर्शन रहे बंगलोर के भाई अमित जी. पर २४ घंटे बाद ही वापस लौटना है सो फ़िर अगली ट्रिप मे देखेंगे ये सब. वैसे इस पुल पर से होकर तो गुजरना ही है हमको.

रामराम.

seema gupta said...

"बंगलोर कभी जाना तो हुआ नही मगर इन तस्वीरों को देख कर लगता है जाना पडेगा..."
Regards

विवेक सिंह said...

घर बैठे बेंगलूरू घुमा दिए . धन्यवाद !

विनय said...

बड़े ख़ूबसूरत चित्र खैंचे हो, वाह्!

---------
चाँद, बादल और शाम

कुश said...

बंगलोर और बंगलोरु तो ठीक है.. पर इसे 'जो' क्यो कहे??? :)

Amit said...

are kush bhai ab naam change hokar bangaloru ho gaya hai na..isley kaha aap jo keh le...

सुशील कुमार छौक्कर said...

अमित भाई आपने तो हुड़क जगा दी। अब क्या करें। और ऊपर से आप कह रहे हैं। बंगलोर जाए तो यहाँ जरुर जाएँ | अजी हमें तो आप घुमाऐगे। आपने वादा किया था। लगता है भूल गए। खैर कुछ भी हो इस पुल से जरुर गुजरना है। ताऊ जी को साथ ले लेंगे। उनकी भी इच्छा हैं।

विनीता यशस्वी said...

Apki post dekhne ke baad to lagta hai ki Bangloor jana hi parega...

RAJIV MAHESHWARI said...

बहुत ही सुंदर तस्वीरें हैं. और तस्वीरें कब दिखायेगे ???
शुक्रिया!

संगीता पुरी said...

आपके द्वारा प्रस्‍तुत किए गए चित्रों और विवरण को पढकर अफसोस हो रहा है.....पिछले वर्ष अक्‍तूबर में वेलौर जाना हुआ....पर सब कुछ सामान्‍य रहने के बावजूद वहां से हमलोग यूं ही वापस क्‍यों लौट गए...बंगलौर दर्शन कर लेना चाहिए था।

रंजना [रंजू भाटिया] said...

बहुत सुंदर चित्र सुंदर जगह है

सीमा सचदेव said...

बंगलूरु मे रहते हुए भी इसे इतने करीब से तो कभी नही देखा जितने करीब से आप ने दिखा दिया |
खास तौर पर हब्बल फ्लाई-ओवर |

अल्पना वर्मा said...

wah bahut sundar tasweeren hain--is bahane banglore bhi dekh liya

mamta said...

बेहद सुंदर फोटो खींची है आपने ।

राज भाटिय़ा said...

बहुत सुंदर लगा आप का बेगलुर( बंगलॊर )चलिये हमारा समय बचा दिया आप ने, जब कभी घुमने आये तो सीधे इन जगह को ही देखे, ज्यादा पुछ ताछ की जरुरत नही पडे गी.
धन्यवाद

मोहन वशिष्‍ठ said...

भाई वैसे तो कभी बैंगलोर गया नहीं लेकिन आपने दर्शन करा दिए बिल्‍कुल लगता है स्‍वर्ग का सा अहसास और हाईटेक भी आपने भी काफी मेहनत की है फोटोज बहुत अच्‍छे हैं धन्‍यवाद

Jimmy said...

Bouth he aacha post kiyaa amit bahi


Site Update Daily Visit Now And Register

Link Forward 2 All Friends

shayari,jokes,recipes and much more so visit

copy link's
http://www.discobhangra.com/shayari/

http://www.discobhangra.com/create-an-account.php

purnima said...

sahi me banglor kafi sunder lag raha he in tasviro se. ab to jana hi hoga banglor.
thanx Amit ji

प्रदीप मानोरिया said...

सुंदर चित्रावली और रोचक जानकारी धन्यबाद
Pradeep Manoria
http://manoria.blogspot.com
http://kundkundkahan.blogspot.com

Lucky said...

Pichle char saaal se bnglr mein rehtein huye bhi lagta hai ki kuch nahi dekha ......ho sakta hai chitro mein hi itna ahccha lagta ho ......lekin kafi achcha swaroo pprastut kiya hia aapki photography ne

राजू साह said...

सचमुच ये तस्वीरे बहुत लुभावनी है